America vs India : अमेरिका ने हाल ही में अपने नागरिकों के लिए एक Travel advisory america जारी की है, जिसमे भारत के कई हिस्सों में यात्रा ना करने की सलाह दी है। एडवाजरी के अनुसार भारत को एक असुरक्षित क्षेत्र बताया है, और कहा गया है ki भारत के कश्मीर जैसे क्षेत्रों में कभी भी आंतकवादी घटनाएं हो जाती है।

Reservation System in India – Types, Advantages, Disadvantages and Opinions

Travel advisory america | America vs India
Travel advisory america | America vs India

इसके अलावा ये भी कहा गया है की भारत में यौन शौषण के मामले लगातार बढ़ते जा रहे है। हालांकि अमेरिका के ये दावे कितने सच है ये आज हम जानने वाले है। और साथ ही में हम अमेरिका और भारत में तुलनात्मक अध्ययन करेंगे की दोनों में से कौनसा देश वास्तव में ज्यादा सुरक्षित है।

ये है पूरा मामला – America vs India

Travel advisory america : दरअसल अमेरिका ने 28 मार्च से अपने नागरिकों को भारत की यात्रा के लिए दूसरे चरण का परामर्श जारी किया हुआ है. उसने 24 जनवरी को यात्रा परामर्श तीसरे चरण से कम करके दूसरे चरण का कर दिया था. जिसमे अमेरिका की और से भारत में यात्रा करने वाले अमेरिकियों के लिए खास चेतावनी दी गई थी।

और कहा गया था की भारत जाने वाले लोग सावधानी बरतें क्योंकि भारत एक अशांत और असुरक्षित क्षेत्र है।आपको याद दिला दें की रूस युक्रेन युद्ध में भारत के निष्पक्ष रहने की वजह से अमेरिका भारत से नाराज नजर आ रहा है। वहीं पाकिस्तान को सपोर्ट करता दिख रहा है।भारत के पड़ोसी देश Afganistan और Myanmar के लिए अमेरिका ने 4th चरण का, जबकि Pakistan और Chaina के लिए 3rd चरण की एडवाइजरी जारी कर रखी है. Bangladesh, Nepal, Maldives और shrilanka के लिए अमेरिका ने दूसरे चरण का, जबकि Bhutan के लिए पहले चरण का Travel advisory america जारी की है।

कितना सही है अमेरिका का ये दांव – Travel advisory america

Travel advisory america : अमेरिका कुछ समय से भारत पर दबाव बना रहा है की भारत रूस के खिलाफ वोटिंग करे। लेकिन रुस और भारत अच्छे दोस्त है वहीं जब भारत पाकिस्तान युद्ध के समय अमेरिका पाकिस्तान के साथ खड़ा हुआ तो रूस ने खुलेआम भारत की मदद की थी। ऐसे में आज अगर भारत रूस का साथ नही देता है तो ये बात दोस्ती के नाम पर कलंक की तरह होती।

क्रिकेट नियम : क्रिकेट में आज से बदल गए है ये नौ नियम

इसीलिए भारत अपने एक सच्चे मित्र के साथ हमेशा खड़ा रहेगा।लेकिन इस बात से अमेरिका जल गया है, और भारत को बदनाम करने के लिए इस तरह की एडवाइजरी जारी कर रहा है। लेकिन आंकड़ों की माने तो भारत से ज्यादा क्राइम रेट तो अमेरिका में है, और अमेरिका भारत पर ज्ञान दे रहा है।आइए जानते है की कैसे भारत अमेरिका से बेहतर है, जबकि अमेरिका में Gun Culture और महिलाओं के यौन शौषण के साथ नस्लीय हिंसा बढ़ती जा रही है।

अमेरिका में नस्लीय हिंसा – Travel advisory america

Travel advisory america : अमेरिका में अपनी एडवाजरी ने कहा है की भारत के कुछ हिस्से सांप्रदायिक हिंसा से प्रभावित है। ऐसे में इन हिस्सो मे यात्रा ना करे। और अगर करते है तो उससे पहले चार बार जरूर सोचें।लेकिन हम आपको आज अमेरिका का वो सच दिखाने जा रहे है जिसके बारे में कोई बात ही नही करता है। अमेरिका में 12 प्रतिशत से ज्यादा अफ्रीकन मूल के लोग रहते है, जिन्हे कथित सभ्य लोग अश्वेत भी बोलते है।

और अमेरिका के सिर्फ एक शिकागो शहर में अश्वेत लोगों के खिलाफ हुई हिंसा को अगर हम बात करें तो 2019 में 486 हत्या के मामले आए थे जिनमे से मात्र 109 मामलों में ही गिरफ्तारी हुई है। जिसके बाद अगले साल 2020 में हत्या के 769 मामले दर्ज हुए थे। और ये आंकड़े हर साल बढ़ते जा रहे है। और ऊपर बताए आंकड़े सिर्फ एक शिकागो शहर के है, हां वही शिकागो जहां स्वामी विवेकानंद जी द्वारा विश्व प्रसिद्ध भाषण दिया गया था।

Adipurush movie teaser, cast, budget, release date, story, boycott

अब जो देश अपने अंदर की हिंसा की आग को कम नहीं कर पा रहा है वो भारत को असुरक्षित बता रहा है। अफ्रीकी मूल के लोगों के साथ पुलिस के द्वारा भी अत्याचार के मामले आए दिन सुनने को मिलते है, लेकिन इन्हे ज्ञान सिर्फ भारत को देना है।अक्सर भारतीय सिखों को उनके परिधान की वजह से परेशान किया जाता है। अभी दो दिन पहले ही अमेरिका में एक सिख परिवार को पहले अगवा कर लिया गया था और बाद में मार दिया गया था।

महिलाओं के प्रति अपराध

Travel advisory america : ये बात सच है की भारत में महिलाओ के प्रति यौन शौषण के मामले काफी ज्यादा आ रहे हैं। और लगातार सरकार इस क्षेत्र में काम कर रही है, कई दुष्कर्मियों का तो एनकाउंटर किया जा चुका है।

UP जैसे राज्यों में तो अपराधियों की सीटी पीटी गुम हो जाती है।लेकिन अमेरिका किस हक से आंख दिखा रहा है, वो तो खुद अपने देश में महिलाओं को नही बचा पा रहा है, और ऊपर से भारत के लिए इस तरह की ट्रेवल एडवाइजरी जारी कर रहा है।अब ध्यान से पढ़ना क्योंकि अमेरिका को सुरक्षित मानने वालों को इस बात से झटका लग सकता है की अमेरिका में हर पांच में से एक महिला के साथ रेप होता है। और ये दावा व्हाइट हाउस की एक रिपोर्ट में किया गया है।

और कड़वा सच ये है की यौन हिंसा सिर्फ महिलाओं के साथ ही नही बल्कि पुरुषों को भी यौन हिंसा का शिकार होना पड़ा है।एक स्टडी की रिपोर्ट में यह पाया गया कि कॉलेज के 7 फीसदी पुरुषों ने रेप की कोशिश को स्वीकार किया और उनमें से 63 फीसदी ने माना कि उन्होंने औसतन 6 बार ऐसा करने की कोशिश की थी।

अमेरिका की गन कल्चर – Travel advisory america

Travel advisory america : अमेरिका में गन रखने में लिए किसी लाइसेंस की जरूरत नही होती है। क्योंकि अमेरिकी सरकार का मानना है की गन रखना हर किसी की जरूरत है, लेकिन यहां इस गलती की वजह से अमेरिका में लगातार अपराध बढते जा रहे है।लेकिन जब बारी ज्ञान देने की आयेगी तो वो ज्ञान सिर्फ भारत को ही दिया जायेगा।

Adipurush copied scene – 5 easy scenes that have been copied

लेकिन ये भी सच है की पहले गन को बिना लाइसेंस जनता को रखने दिया था, और अब वही गन अमेरिकी सरकार के लिए नाक का नासूर बन गई है।आए दिन गोलीबारी और अपराध की घटनाएं सामने आती रहती है। जो की भारत में सामने आने वाले अपराधिक मामलों से बहुत ज्यादा है। इसलिए मेरे हिसाब से बाइडेन चाचा को अपना ध्यान देश के हालातों पर भी देना चाहिए, ताकि रूस और चीन जैसे देश आने वाले समय में अमेरिका पर कब्जा ना कर पावे।

अमेरिका में भारतीयों की स्थिति

Travel advisory america : अमेरिका में आज हर सौ में एक नागरिक भारतीय है, और इसमें बढ़ोतरी आ रही है। लेकिन इसका मतलब ये नही की वो वहां भारत से ज्यादा सुरक्षित रहते है। अक्सर सुनने में आता है की अमेरिका में भारतीय सिखों की पगड़ी को लेकर टिप्पणी की जाती है। अक्सर धर्म को लेकर हिंसा की जाती है। हाल ही में एक भारतीय सिख के परिवार के अगवा करके मार डाला गया था। लेकिन ये बाते अमेरिका को खुद को कहां दिखेगी।

हमारी क्या जिम्मेदारी है America vs India

America vs India ये बात सही है की अमेरिका की हालत “खिसियानी बिल्ली खंभा नोचे” वाली है। लेकिन हमे इस एडवाइजरी को एक सबक की तरह लेना चाहिए, हमे पता है की अमेरिका से काफी कम ही सही सांप्रदायिक हिंसा भारत में भी हुई जरूर है।इसलिए हमे हिंसा रोकने और महिलाओं के प्रति हिंसा रोकने की और काम करना चाहिए, ताकि ऐसे दल बदलू देशों को उचित जवाब दे सके।

जो अमेरिका कल तक भारत को अपना सब कुछ बता रहा था वो आज पाकिस्तान को गोद में सोने को तैयार है उससे और क्या ही उम्मीद की जा सकती है।दूसरी ओर भारत दुनिया की चौथी सुपर पावर देश बन चुका है, ये भी कहीं ना कहीं अमेरिका को हजम होने वाली बात नही हो सकती है।अमेरिका शादी में उस फूफा जी की तरह है जिसे हर बात पर मुंह फुलाकर इधर की बात उधर और उधर की बात उधर करनी होती है।

अगर आपको आर्टिकल पसंद आया है तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें।