Himanta Biswa Sarma : असम के मुख्यमंत्री हेमंत बिस्वा जी ने एक बार फिर अखंड भारत को लेकर राय जाहिर की है.

काफी देश की आजादी के बाद से ही लोग अखंड भारत की मांग उठा रहे है. लेकिन कई कारणों के कारण के अधुरा पड़ा है. देश में कई राष्ट्रवादी संगठन लगातार इसकी मांग उठा रहे है.

Himanta Biswa reacted on Sarma's Akhand Bharat.
akhand bharat
Hemant Bisva Sarma On Akhand Bharat

जिसके बारे में असम के मुख्यमंत्री का ये बयान चौंकाने वाला है. वो भी ऐसे समय में जब विपक्षी दल भारत जोड़ो आन्दोलन पर काम कर रहे है. आपको बता दें की केंद्र सरकार अखंड भारत पर पहले भी अपनी राय जाहिर कर चुकी है. देश में इस बारे में काफी जोर शोर से मांग उठ रही है.

ऐसे मौके पर असम के मुख्यमंत्री himanta biswa sarma, जो की भारतीय जनता पार्टी से जुड़े है का ये बयान कई सवाल खड़े करता है. जिनके बारे में हम आज के इस आर्टिकल में विस्तार से बात करने वाले है. जैसे की-

  • Himanta Biswa Sarma ने अखंड भारत को लेकर क्या कहा
  • Himanta Biswa Sarma कौन है?
  • अखंड भारत क्या है?
  • अखंड भारत के क्या फायदे है.
  • अखंड भारत कैसे बनेगा?
  • अखंड भारत में कितने देश है?
  • अखण्ड भारत का नक्शा

Himanta Biswa Sarma ने अखंड भारत को लेकर क्या कहा

Himanta Biswa Sarma : असम के मुख्यमंत्री Himanta Biswa Sarma ने न्यूज़ एजेंसी ANI को बताया. जिसमे उन्होंने कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा को लेकर कहा की, “कांग्रेस भारत जोड़ो यात्रा कर रही है, वो तो ठीक है लेकिन भारत सिर्फ कश्मीर से कन्याकुमारी तक ही नहीं है. पाकिस्तान और बांग्लादेश जैसे देश भी अखंडभारत का ही एक हिस्सा है, इसलिए इन्हें वहां भी भारत जोड़ो यात्रा करनी चाहिए. ताकी अखंड भारत का सपना साकार हो.”

इस बयान के बाद पाकिस्तान जैसे देशों में मीडिया और सरकार के यहाँ बिलकुल खलबली मच गई है.वहीँ कांग्रेस के कद्दावर नेता भी हमलावर हो रहे है. वहीँ कांग्रेस नेता और राजस्थान के मुख्यमंत्री ने भी पलटवार किया है.

उन्होंने कहा की कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा का उद्देश्य देश में अमन चैन लाना है. इसलिए हेमंत बिस्व शर्मा की बात पर ध्यान ना दें.
लेकिन जो भी हो हेमंत बिस्व शर्मा के इस बयान के बाद एकबारगी सियासत गरमा गई है. जहाँ एक तरफ भारतीय जनता पार्टी के नेता हेमंत बिस्व शर्मा को सपोर्ट कर रहे है. वहीँ दूसरी तरफ कांग्रेस उन पर हमलावर हो रही है.

मुख्यमंत्री बिस्व ने कहा की, भारत एकजुट ही है. अगर जोड़ना ही है तो अखंड भारत को जोड़े. और शुरुआत के तौर पर इसकी शुरुआत पाकिस्तान से करें. हालाँकि इसे लेकर अलग अलग प्रतिक्रिया आ रही है. काफी ;लोग हेमंत बिस्व शर्मा को अपना समर्थन जता रहे है.

Himanta Biswa Sarma कौन है

Himanta Biswa Sarma भारतीय जनता पार्टी के एक प्रमुख नेता और असम के मुख्यंत्री है. जो अपनी हिन्दुवादी सोच के लिए प्रसिद्ध है. 2016 में Himanta Biswa Sarma असम विधानसभा के निर्वाचन में जीतकर Himanta Biswa Sarma असम के कैबिनेट मन्त्री बने. भाजपा के केंद्र सरकार के द्वारा उन्हें 2016 में NEDA का प्रमुख बनाया गया.

Himanta Biswa Sarma असम के स्वास्थ्य मन्त्री भी रह चुके हैं. Himanta Biswa Sarma ने 2001 से 2015 तक कांग्रेस के टिकट से असम के जालुकबारी से विधानसभा के रूप में और मई 2016 तक भाजपा के सदस्य के रूप में विधायक रहे है. जिन्होंने हाल में अखंड भारत पर अपना बयान दिया है.
हेमंत बिस्व सरमा ने 2001 में रिनिका भुया शर्मा से विवाह किया था. उनके एक बेटा और एक बेटी है. बेटे का नाम – नंदिल बिस्व शर्मा है. और बेटी का का नाम सुकन्या सरमा है.

हेमंत बिस्व सरमा को पूर्वोतर में भाजपा का चाणक्य कहते है. पूर्वोतर में भाजपा की पकड़ का श्रेय उन्ही को जाता है.

अखंड भारत क्या है?

Himanta Biswa Sarma : अखंड भारत वर्तमान भारत का वास्तविक स्वरूप है. जिसमे वर्तमान भारत के भूखंड से काफी ज्यादा बड़े दायरे का भूखंड है. जिसमे आज के कई स्वतंत्र देश भी शामिल है. विकिपीडिया के अनुसार अखंड भारत, भारत के प्राचीन अविभाजित स्वरूप को कहते है.

Himanta Biswa reacted on Sarma's Akhand Bharat.
akhand bharat

Gautam Adani : दुनिया के तीसरे और एशिया के पहले अमीर शख्स के बारे में

जैसा की निचे मानचित्र में दिखाया गया है. भारतीय जनता पार्टी अक्सर खुले आम अखंड भारत के मुद्दे पर बोलने से कतराती है. जबकि राष्ट्रिय स्वंयसेवक संघ(RSS) हमेशा से इस मुद्दे को उठाता आ रहा है.

संघ के विचारक Ho. She. Sheshadri की पुस्तक Tragic Story of Partition में अखंड भारत के मुद्दे पर प्रकाश डाला गया है. जहाँ वो सभी से अखंड भारत के मुद्दे पर विचार करने का आग्रह करते है.

अखंड भारत को अलग अलग नामो से बुलाया जाता था जैसे की भारतवर्ष जम्बूद्वीप, भारतखण्ड, आर्यावर्त, हिन्दुस्तान (हिन्दुस्थान), हिन्द आदी. प्राचीन भारत(अखंड भारत) ज्ञान विज्ञान का प्रमुख केंद्र हुआ करता था. इसका जीवंत उदाहरण नालंदा विश्वविध्यालय है. जिसे क्रूर मुग़ल शासक खिलजी ने जला दिया था. ताकी वो सनातन के संस्कृति को नष्ट कर पाए.

Reservation System in India – Types, Advantages, Disadvantages and Opinions

अखंड भारत में आने वाले देश

अखंड भारत जैसा की ऊपर बताया है, की भारत का प्राचीन स्वरूप था. जिसमे कई देश शामिल थे. ज्यादातर पहले अलग हुए और पाकिस्तान और बांग्लादेश 1947 में अलग हुए थे.

  • भारत,
  • अफगानिस्तान,
  • पाकिस्तान,
  • तिब्बत,
  • भूटान,
  • म्यांमार,
  • बांग्लादेश,
  • श्रीलंका,
  • मलेशिया,
  • फिलिपिंस,
  • थाइलैंड,
  • वियतनाम,
  • कंबोडिया,
  • इंडोनेशिय,
  • लाओस,
  • मालदीव,
  • सिंगापुर,
  • ब्रुनेई,
  • नेपाल

जैसा की आपने देखा की अगर भारत अखंड भारत होता तो, आज बहुत विशाल होता. इन देशो के नाम हमारी व्यक्तिगत राय मात्र नहीं है. इतिहास गवाह है, की इन देशों तक कभी भारत के राजाओं के राज थे. विकिपीडिया पर भी इस बारे में विस्तार से जानकारी दी गई है.

Kangana Ranaut ने Mahesh Bhatt को लेकर किया चौंकाने वाला खुलासा

अखंड भारत के फायदे

किसी भी देश का फायदा उसकी अखंडता में ही निहित है. कोई भी देश नहीं चाहेगा की उसके टुकड़े करके नए देश बनाये. इसी का ताजा उदाहरण रूस और युक्रेन युद्ध के रूप में मिला है. शुरुआत में रूस भी अखंड था

जिसे सोवियत यूनियन कहा जाता था. लेकिन बाद में विश्वयुद्ध के बाद उसका विभाजन कर दिया था. इसी तरह भारत का भी 1947 में पाकिस्तान और बांग्लादेश अलग करके देश की अखंडता से खिलवाड़ किया था.

अगर भारत वापस अखंड भारत बनता है तो इसके कई सारे फायदे होंगे. कोई भी देश जब आकार में विशाल होता है. तो उसकी मैनपॉवर बढ़ जाती है. जो देश आकार में बड़े है, उनकी सेना छोटे आकर के देशों के मुकाबले में ज्यादा विशाल और ताकतवर है. इसका चीन और रूस से उदहारण लिया जा सकता है. बड़े आकार में होने से विशाल जनसँख्या समूह एक ध्वज को समर्थन देता है. जो की उसकी ताकत को बढाता है. इसीलिए ही लोग एकता पर बल देते है.

अखण्ड भारत का नक्शा

अखंड भारत में कई सारे देश शामिल थे. इसलिए ए वर्तमान भारत के नक़्शे से बिलकुल भिन्न होगा. जिसका नक्शा आगे दिखाया गया है.

Himanta Biswa reacted on Sarma's Akhand Bharat.
akhand bharat
अखंड भारत का नक्शा

अखण्ड भारत में आज के पाकिस्तान, अफगानिस्थान, तिब्बत, भूटान, बांग्लादेश, म्यांमार, श्रीलंका आते है. केवल इतना ही नहीं कालान्तर में भारत का साम्राज्य में आज के मलेशिया, थाईलैण्ड, फिलीपीन्स,, दक्षिण वियतनाम, कम्बोडिया, इण्डोनेशिया आदि में सम्मिलित थे।

Kya Bharat Hindu Rashtra hai? – Hindu Rashtra