bharat jodo yatra : भारत में कांग्रेस के द्वारा 7 सितंबर 2022 से कांग्रेस नेता राहुल गाँधी के नेतृत्व में भारत जोड़ो यात्रा शुरू हुई है.

जिसका मुख्य उद्देश्य देश भर के लोगो को कांग्रेस के साथ जोड़ना है. हालाँकि शुरुआत से ही भारत जोड़ो यात्रा विवादों से घिर चुकी थी. दुसरे राजनितिक दलों के द्वारा आरोप लगाये जाते रहे है.

bharat jodo yatra
Bharat Jodo Yatra

आज के इस आर्टिकल में हम भारत जोड़ो यात्रा के बारे में विसर से जानने वाले है. भारत जोड़ो यात्रा पर लगाये जाने वाले आरोपों का भी अध्ययन करेंगे. साथ ही अपनी राय भी जाहिर करेंगे. ताकि आपको समझने में आसानी हो. तो आइये सबसे पहले बात कर लेते है की भारत जोड़ो यात्रा क्या है.

भारत जोड़ो यात्रा क्या है? – What is Bharat Jodo Yatra?

bharat jodo yatra : भारत जोड़ो यात्रा भारतीय राष्ट्रिय कांग्रेस के द्वारा 7 सितंबर 2022 से शुरू की गई है. इसका उद्देश्य देशभर के लोगो को कांग्रेस के साथ जोड़ना है. भारत जोड़ो यात्रा में देशभर के करीब 1500 से ज्यादा कांग्रेसी कार्यकर्ता भाग ले रहे है। जिसमे सबसे ज्यादा उत्तरप्रदेश के 70 कार्यकर्ता भाग ले रहे हैं। भारत जोड़ो यात्रा भारत के कन्याकुमारी से लेकर कश्मीर तक जाएगी। भारत जोड़ो यात्रा का नेतृत्व कांग्रेस नेता राहुल गाँधी के हाथ में है. पिछले कुछ सालों में देशभर में कांग्रेस के हालत पतले हुए है. ऐसे में भारत जोड़ो यात्रा को कांग्रेस के उत्थान के लिए बहुत ही उपयोगी माना जा रहा है. क्योंकि इस यात्रा के माध्यम से कांग्रेस देशभर के अपने कार्यकर्ताओं से जुड़ने का प्रयास करेगी.

हालाँकि ये यात्रा कांग्रेस के भले के लिए है. लेकिन इन दिनों यात्रा विवादों में भी घिरती जा रही है. बार बार या तो कांग्रेस कार्यकर्ताओ के द्वारा विवादित बयान दिए जाते है. या फिर विवादित विडियो वायरल होते है. आइये जानते है की भारत जोड़ो यात्रा को लेकर किस तरह के विवाद है.

Bharat Jodo Yatra क्यों विवादों में घिर रही है?

bharat jodo yatra : भारत जोड़ो यात्रा का शुरुआत से ही कांग्रेस के अलावा दूसरी पार्टियों ने अपने तरीके से विरोध किया था. कभी हेमंत बिस्व सरमा ने राहुल गाँधी से भारत जोड़ो यात्रा पाकिस्तान में करने की सलाह दि. तो कभी कांग्रेस खुद गलती करके विवादों में आई.

bharat jodo yatra पर भाजपा नेता का आरोप

कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा लगातार सत्तारूढ़ पार्टी के नेताओं के निशाने पर रही है. भाजपा के द्वारा लगातार कांग्रेस पर हमले होते रहे है. हाल ही में भाजपा नेता हेमन्त बिस्व सरमा ने ये यात्रा पाकिस्तान में करने की सलाह दी थी. जिससे बवाल खड़ा हो गया था. भाजपा नेता का कहना था की पाकिस्तान और बांग्लादेश भी पहले भारत का ही हिस्सा थे. इसलिए राहुल गाँधी को वहां पर यात्रा करके उन्हें वापस भारत में जोड़ना चाहिए. जबकि कांग्रेस नेताओ ने इस बयान को गैर जिम्मेदाराना बताया था. वहीँ पाकिस्तान ने भी इस मसले पर प्रतिक्रिया दी थी. आपको बता दे की भाजपा अखंड भारत के सिधान्तो में विश्वास करती है.

पादरी का विवादित बयान

भारत जोड़ो यात्रा के दौरान राहुल गाँधी ने एक पादरी जॉर्ज पोन्नैया से मुलाकात की थी. राहुल गाँधी और जॉर्ज पोन्नैया की बातचीत का एक विडियो बहुत वायरल हो रहा है. जिसमे जॉर्ज पोन्नैया कहते है की जीसस ही असली भगवन है. बाकी शक्ति रूप(हिन्दू देवता) असली नहीं है. जिसके बाद से भाजपा और हिंदूवादी संगठन कांग्रेस पर हमलावर हो चुके है. वहीँ कांग्रेस अपने बचाव में उतर आई है.

जॉर्ज पोन्नैया पहले भी भड़काऊ बयान दे चुके है. उन्हें पिछले साल जुलाई में मदुरै के कालीकुडी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और अन्य के खिलाफ कथित रूप से अभद्र भाषा का इस्तेमाल करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था।

bharat jodo yatra से जुड़े दुसरे विवाद

भारत पाकिस्तान विभाजन के लिए काफी लोग कांग्रेस और मुस्लिम लीग को जिम्मेदार ठहराते है। भारत पाकिस्तान विभाजन के समय बांग्लादेश भी भारत से अलग कर दिया गया था। और आजादी के समय सरकार कांग्रेस की थी। इसलिए लोग कह रहे है की कांग्रेस ने पहले देश को तोड़ दिया है। और अब अपने स्वार्थ के लिए भारत जोड़ो यात्रा का ढोंग कर रही है। हालांकि कांग्रेस लगातार इन आरोपों को नकारती रही है।

russia ukraine war – vladimir putin russia ukraine war हिंदी

bharat jodo yatra में कौन भाग ले रहा है

bharat jodo yatra भारतीय राष्ट्रिय कांग्रेस की एक यात्रा है. जिसमे कांग्रेस के करीब 1500 से ज्यादा लोग भाग ले रहे है. हालाँकि कई जगह यात्रा को विरोध भी झेलना पड़ा है लेकिन फिर भी यात्रा जारी है. यात्रा का मुख्य उद्देश्य कांग्रेस का उत्थान करना है. क्योंकि पिछले कुछ सालों में कांग्रेस से जनता का विश्वास उठ गया है. यहाँ तक की कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेता कांग्रेस छोड़ चुके है. जिससे कांग्रेस के हालत बिलकुल ख़राब हो गए है. ऊपर से अकुशल नेतृत्व ने आग में घी डालने का काम किया है. इसलिए इस यात्रा में कांग्रेस ने अपने नेताओ और कार्यकर्ताओं के बीच संवाद स्थापित करने का प्रयास किया है.

कांग्रेस छोड़ने वाले मुख्य नेता

पिछले कुछ सालों में कांग्रेस के कई अनुभवी और वरिष्ठ नेता नेतृत्व से असंतुष्ट होकर, कांग्रेस का साथ छोड़ चुके है. जिनकी एक छोटी से लिस्ट निचे दी गई है. ये लिस्ट एक झलक मात्र है.

मुख्यमंत्री Himanta Biswa Sarma ने दिया अखंड भारत पर अहम बयान, कहा

  • रेश रावल और राजू परमार,
  • कपिल सिब्बल,
  • पंजाब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सुनील जाखड़,
  • हार्दिक पटेल,
  • पूर्व कानून मंत्री अश्विनी कुमार,
  • आरपीएन सिंह
  • गोविंददास कोंथौजामी,
  • विजयन थोमस,
  • ए नमस्सिवयम,
  • वीएम सुधीरन,
  • पीसी चाको,
  • अभिजीत मुखर्जी,
  • जितिन प्रसाद,
  • सुष्मिता देव,
  • लुइज़िन्हो फलेरो,
  • ललितेश त्रिपाठी अमरिंदर सिंह,
  • कीर्ति आजाद,
  • मुकुल संगमा,
  • अदिति सिंह,
  • रवि एस नाइक

इसके अलावा काफी सारे नेता है जो कांग्रेस का साथ छोड़ चुके है. और ऐसा करने का मुख्य कारण कांग्रेस का नेतृत्वहीन होना है.

Kya Bharat Hindu Rashtra hai? – Hindu Rashtra

अब भारत जोड़ो यात्रा से जुड़े कुछ सवालों पर बात कर लेते है-

ये आदमी है कांग्रेस का नया अध्यक्ष – new congress president

bharat jodo yatra map

bharat jodo yatra कन्याकुमारी से होकर कश्मीर तक जाएगी. जिसका पूरा Map आगे इमेज में दिया गया है.

bharat jodo yatra
Bharat Jodo Yatra Map

भारत जोड़ो यात्रा का रास्ता कन्या कुमारी से लेकर कश्मीर तक है. जिसमे राजस्ठान से भी होकर गुजरेगा.

38 thought on “भारत जोड़ो यात्रा और इससे जुड़े विवाद – bharat jodo yatra”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *